Balanced Life Success Story In Hindi

Success in hindi
कपिल एक अच्छा लड़का था परंतु वह खेल में ज्यादा में ज्यादा समय देता था जिससे कभी – कभी तो उसका स्कूल का काम भी रह जाता था उसके टीचर हमेशा कहते थे की तुम लाइफ में खेल और पढ़ाई के बीच में संतुलन बना कर रखा करो नहीं तो लाइफ में कभी भी success हासिल नहीं कर पाओगे ।
छुटटी के बाद में जब कपिल घर आ रहा था। तो उसके मन में teacher की संतुलन वाली यह बात घूम रही थी आखिर यह संतुलन क्या हैं इसका क्या मतलब होता हैं उसने सोचा की जब पापा ड्यूटी से घर आयेंगे, तो वह उनसे संतुलन के बारे में पूछेगा।
उसी शाम जब कपिल के पापा घर आये तो घर में खाना बन रहा था कपिल ने अपने पापा से कहा पापा लाइफ में संतुलन क्या होता है यह क्यों जरूरी है उसके पिता ने कुछ देर सोचा और कहा चलो रसोई में चलते हैं।
वहाँ पर खाना बन रहा हैं। कपिल और उसके पापा दोनों रसोई में पहुँचे तो वहाँ कपिल की माता जी रोटी बना रही थी ।कपिल के पापा ने उससे कहा देखो बेटा तुम्हें संतुलन का उदाहरण इस रोटी के जरिये देता हूँ।
अगर हम रोटी को ज्यादा देर तक आग पर रहने दे तो यह जल जायेगी। अगर जल्दी हटा ले तो यह कच्ची रह जायेगी।जिस तरह एक सही रोटी पकाने के लिये सही समय तक उसे आग पर रखना होता है । इसी तरह सही समय पर सही काम करना ही संतुलन होता हैं।
जैसे तुम ज्यादा खेलने लगे तो तुम पढ़ाई में कमजोर रह जाओगे ।अगर बिलकुल भी नही खेलोगे तो तुमारी Health खराब हो जायेगी।
तुम्हे खेलना और पढ़ना दोनों सही समय पर करने होंगे। तभी तुम लाइफ में Success मिलेगी और लाइफ में हमेशा सुखी रह सकोगे । कपिल अब संतुलन का मतलब समझ चूका था ।

Moral of story हमे बताती है कि हमारा अपने जीवन में सही समय पर सही काम करना ही एक तरह से संतुलन होता हैं। Success पाने के लिये जीवन में संतुलन बहुत जरूरी होता हैं। किसी महापुरुष से सच कहा कि संतुलन का नाम ही जीवन है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here