Motivational story in Hindi

कालू की एक सफल व्यापारी से दोस्ती थी और अक्सर कालू उस Successful व्यापारी के पास आता और उससे लाइफ में सफलता मिलने का उपाय पूछ करता था लेकिन व्यापारी टाल देता था।एक दिन कालू चोर का आग्रह बहुत बढ़ गया।वह जमकर बैठ गया।
उसने कहा कि वह बगैर उपाय जाने वहाँ से जायेगा ही नही। व्यापारी ने कालू चोर को दूसरे दिन दिन सुबह आने को कहा। कालू ठीक समय पर आ गया।
व्यापारी ने कहा, तुम्हें सिर पर कुछ पत्थर रखकर पहाड़ पर चढ़ना होगा।
वहाँ पहुँचने पर ही में तुम्हें सफलता का तरीका बताऊँगा। कालू के सिर पर पांच पत्थर लाद दिये गए, और व्यापारी ने उसे अपने पीछे पीछे चले आने को कहा। इतना भार लेकर वह कुछ दूर ही चला तो उस बोझ से उसकी गर्दन दुखने लगी।

Self improvement story पढ़ने के लिए क्लिक करें
उसने अपना कष्ट कहा, तो व्यापारी ने एक पत्थर फिकवा दिया। थोड़ी देर चलने पर शेष भार भी कठिन लगने लगा ,तो कालू की प्रार्थना पर व्यापारी ने दूसरा पत्थर भी फिकवा दिया। यही क्रम आगे भी चला। कालू बार बार अपनी थकान व्यक्त कर रहा था।
अंत में सब पत्थर फेक दिये गए और कालू आसानी
पूर्वक पर्वत पर चढ़ता हुआ ऊंचे शिखर पर जा पहुँचा।
व्यापारी ने कहा, जब तक तुमारे सिर पर पत्थरो का बोझ रहा,तब तक पर्वत के ऊंचे शिखर पर तुमारा चढ़ सकना संभव नही हो सका।
पर जैसे ही तुमने पत्थर फेंके वैसे ही चढ़ाई सरल हो गई।
इसी तरह जब तक तुम्हारे अंदर आलस्य, टालमटोल, कामचोरी, काम को समय पर न करने जैसी पत्थर रूपी आदत बनी रहेंगी तब तक तुम्हे लाइफ में सफलता को नही मिल सकता हैं।
कालू ने व्यापारी के आशय को समझ लिया ।
और आजीवन आलस्य, टालमटोल, कामचोरी, काम को समय पर न करने जैसी आदतों को छोड़ने का फैसला लिया।

पढ़े daily नई कहानी इसी website पर पढ़ते रहिये आगे बढ़ते रहिये दोस्तों फिर मिलेंगे एक नई कहानी के साथ कहानी अच्छी लगने पर शेयर करें दोस्तों ।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here