Moral Story In Hindi

हम आपके साथ मे एक  Moral Stories  शेयर करना चाहते हैं।

धनराज को अपने धनी होने पर बहुत घमंड था वह सोचता था जो लोग उस से पैसे में कम हैं उनके सामने बोलने और खड़े होना का कोई अधिकार नही हैं। धनराज उन सभी कोई बड़ी ही हीन नजर से देखता था।एक दिन जब वह अपने ऑफिस जाने लगा तो उसे पता चला की एक गाड़ी खराब हो गयी हैं और घर पर किन्ही कारणों से और गाड़ी भी नही हैं। वह बहुत गुस्सा हो गया हो अपने ड्राइवर पर चिलल्लाने लगा। अपने ड्राइवर से कहा कि जल्दी से मेरे लिये एक कैब  बुलवाओ, धनराज कैब में बैठ कर अपने ऑफिस की तरफ रवाना हो गया, और रास्ते भर कैब चालक से उसके अपने से गरीब होने और तरह तरह की सीख देने लगा और उसकी गरीबी पर तंज कसने लगा,उसने कहा तुम जैसे गरीब लोगो का जीवन बेकार हैं।

इस गरीबी से अच्छा तो तुम लोगो को मर जाना चाहिये। इन्ही सब बताओ में धनराज का ओफिस आ गया।

और कैब वाला चुप चाप उसकी इन बताओ को सुनकर चला गया।

जब वह शाम को अपने ऑफिस से घर जा रहा था तो रास्ते में उसका अचानक से एक्सीडेंट हो गया और वह बेहोश हो गया जब उसकी आँख खुली तो धनराज ने अपने आप को एक हॉस्पिटल में पाया।और हैरान होकर  डॉक्टर से कहा की मुझे यहॉ कोन लेकर आया ।

डॉक्टर ने बहार से एक आदमी को बुलाकर कहा ये महान आदमी आपको यहाँ लेकर आये हैं। जब धनराज ने उस आदमी की तरफ देखा तो धनराज की आँखों में से आशु आ गये और वह अपने आपको बहुत लज्जित महसूस करने लगा, क्योंकि यह महान आदमी कोई और नही वही कैब ड्राईवर था जिसका सुबह धनराज ने सुबह सुबह बहुत ज्यादा अपमान किया था।

moral Story हमे बताती है  कि यदि हमारे और पास किसी प्रकार का कोई धन साधन सम्पति , या और कुछ किसी से ज्यादा है तो हमे किसी को भी छोटा समझ कर उसका अपमान नहीं करना चाहिए . सभी से प्यार से व्यवहार करना चाहिए कब कोई आदमी कहाँ कम आ जाये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here