शेर की जन्म दिन की पार्टी

एक बार जंगल के राजा शेर ने जंगल के सभी जानवरो को अपने जन्म दिन पर दावत दी।

इस दावत में तरह तरह के पकवानों और खाने पीने की चीजों का प्रबंध था। सभी जानवर दावत में आए और पकवानों का आनंद लेने लगें । परन्तु इस खुशी के माहौल में भी सूअर उदास दिखाई दे रहा था । पार्टी खत्म होने पर जब सभी जानवर जाने लगे और रास्ते में खाने पीने की बहुत बड़ाई करने लगे की आज तक ऐसा खाना किसी ने नही खिलाया तो सूअर से रहा नही गया और कहने लगा तुम लोगो को हो क्या गया है । तुम जो इस पार्टी की इतनी बड़ाई कर रहे उसमे खाने की कोई भी अच्छी चीज नही थी में तो भूखा ही आ गया । यह सुनकर सभी जानवर हैरान हो गये यह कैसे हो सकता हैं इतने सारे स्वादिस्ट पकवान , मीठा, व् अन्य कई प्रकार के प्रतिभोजो का प्रतिबंद होते हुये भी तुम भूखे कैसे आ गये ।

तभी कुछ दूर चलने पर सूअर को एक गन्दी का डेर दिखाई दिया और वह भागकर उस ढेर में जाकर खाने लगा।

यह सब देखकर जानवर और भी ज्यादा  हैरान रह गये।

इस पर उनमे से   विद्वान ने कहा इसमें हैरान होने की जरूरत नही हैं जो व्यक्ति जैसा होता हैं जैसी उसकी आदत होती हैं वैसा ही काम करता हैं ऐसे लोग किसी भी काम या आदमी में केवल बुराई ही ढूढ ते हैं ऐसे लोगो की बुराइयों पर धयान नही देना चाहिये 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here