Success Story in Hindi
Success Story in Hindi

नदी के किनारे एक गुरु व उसका शिष्य कुटिया बना कर रहते थे । एक दिन शिष्य ने गुरु जी से पूछा की गुरु जी life कुछ स्थिर सी हो गयी है । life में नए अवसर कब आते है ।
गुरूजी ने कहा तुम कल दिन में सावधान , जागरूक , व सतर्क रहना हर चीज की अच्छे से देखना कल तुम्हे कुछ नया करने की मिलेगा ।
अगली सुबह शिष्य आपने काम को मन लगाकर व ध्यान पूर्वक करने लगा । शाम को जब वह फ्री हुआ तो वह नदी के किनारे की तरफ चला गया । वहाँ नदी के किनारे वह बैठ गया और शांति के साथ नदी के पानी को देखने लगा । वही उस के पास कुछ पत्थर के छोटे – छोटे टुकड़े पड़े थे । वह उन्हें उठा कर नदी में फेंकने लगा । वह पत्थर कुछ ठंडे थे । जब एक पत्थर बचा तो उस ने उस पत्थर को जेब में रख लिया की अपने गुरु को दिखाएगा और पूछेगा की ये पत्थर इतने ठंडे क्यों है । उस पत्थर को लेकर वह कुटिया में गया ।

वहां जाकर उसने गुरूजी से कहा कि आज तो कुछ भी खास नही हुआ है । मुझे ये बस पत्थर मिला जी ठंडा है ।
गुरु ने उस पत्थर को देखकर खा ये तो हीरा है इसकी कीमत तो बहुत ज्यादा है

शिष्य से गुरु ने पूछा क्या केवल यही पत्थर था शिष्य नही वहाँ और भी बहुत सारे थे । मैने तो सब फेंक दिए मुझे नही पता था ये हीरे है।
गुरु जी ऐसे ही जीवन में बहुत से अवसर आते ही रहते है जिन का हम फायदा नही उठा पाते है । अगर हमें सही समय पर सही अवसर का पता चल जाए तो हम उसका फायदा उठा सकते है इसके लिए हमे हर वक्त ,हर समय ध्यान से व अवसर की तलाश में रहना होगा । तभी हम success हो पाएंगे । इसलिए हमें अवसर की पहचान कर उसका लाभ लेना चाहिए ।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here