Success story in Hindi for students

Success story in Hindi for Students

अभी अभी दसवीं का result आये ज्यादा दिन नही हुये थे। योगेश अपनी clAss में First आया था। उसने दसवीं क्लास में 97 % नंबर लिये थे। अभी से ही उसके टीचर उससे science लेने के लिये कह रहे थे।
की अगर वह Science के साथ में Math लोगें तो एक बहुत अच्छा Engineer बन जायोगे।
उसके घर में उसके पापा उसे डॉक्टर बनने के लिये कह रहे थे। उनका मानना था कि डॉक्टर की।कमाई ज्यादा होती हैं।
योगेश के अंकल के वकील थे।वे उसे Arts लेने के लिये कह रहे थे। जिससे की योगेश भी उनकी तरह एक अच्छा और बड़ा वकील बन सकें।जबकि योगेश का बड़ा उसे bank manager बने की सलाह दे रहा था। इस तरह से Family or Relative’s उसे अलग अलग सलाह दे रहे थें। उसे समझ नही आ रहा रहा।की वह क्या Decided करें और कौन सा descion उसके लिये सही रहेगा। हर realtive की बात उसे सही लग रही थी। उसकी यह condtions उसे problem or Confusion में।डाल रही थी।
योगेश ने अपने दादा जी को अपनी Situation बताई
ओर उंनसे एक अच्छा Suggestions माँगा।
उसी शाम को योगेश Cricket Match देख राहा था।
उसे Cricket Match देखना बहुत पसंद था। जब उसके दादा जी ने आकर मैच की जगह News Channel लगा दिया । तो उसका ध्यानं दादा जी की तरफ गया । उसने दादा जी से मैच चलाने के लिये कहा
दादा जी – बीएस दस मिनट के लिए new चैनल लगा रहने दो । उसके बाद मैं चला जाऊँगा तब तुम मैच देख लेना ।
योगेश – दस मिनट में तो दो over निकल जाएगे ।
दादाजी – तो बाद में देख लेना जब दोबारा आए
योगेश – दस मिनट ही देखना बस
दादाजी news चैनल देखने लगे जाते है । वह बेचैन हो जाता है । इस बीच में योगेश कई बार time देखता है कि अभी time हुआ है या नही ।
दादाजी के जाने के बाद योगेश news चैनल लगा देता है ।
अगली सुबह जब योगेश अपने दादाजी के साथ घूमने जाता है ।
योगेश – दादाजी आपने मेरी कल की समस्या का जवाब नही दिया
दादाजी – जवाब तो मैने तुम्हें जब तुम मैच देख रहे थे तभी दे दिया था ।
योगेश – मैं समझा नही
दादाजी – जब तुम कल मैच देख रहे थे तो तुम्हारा ध्यान पूरा ध्यान उसी में था । तुम साथ साथ खुस भी थे । जब मैने चैनल बदला तो तुम अधीर हो गए । तुम से 10 मिनट के लिए news देखना कठिन हो गया
उसी तरह से तुम्हे भी वही choose करना चाहिए जिस में तुम्हारा interest हो तभी तुम्हे success मिलेगी । तभी तुम्हारा मन अपने aim के लिए वफादार रहेगा ।
अगर तुम दुसरो के हसब से चलोगे तो success हासिल नही कर सकते हो । और न ही अपने aim में मन लगा पाओगे ।
इसलिए हमे वह काम choose करना चाहिए जिस में हमारा interest हो । हमारा interest ही हमे success की तरफ ले जाता है ।

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here